Tagged: #sridevi

#sridevi 5

चांदनी…ओ मेरी चांदनी #sridevi

  कलागृह में लोग इकट्ठा होने  शुरू हो गए थे । परंतु आज दिलों में वो उमंग नही थी , हवाओं में घुंघरुओं सी थिरकन नही थी, चांद जैसे अपनी चांदनी बिखेरना ही भूल...

Please wait...

Subscribe

Enter your email address and name below to get the posts direct in your Email
Skip to toolbar