नारी शक्ति #fridayfotofiction #fictionwriting

 

नारी शक्तिक्या कांच का यह सेतु , नारी शक्ति को नहीं   दर्शा  रहा ???

दिखने में तो कांच जैसी नाज़ुक है नारी   , पर अंदर से लोहे सी मज़बूत है नारी ।

दिखने में तो कांच जैसी पारदर्शी है नारी , पर अंतर्मन में नाजाने कितने राज़ समेटे हुए है नारी ।

जैसे इस कांच को कई यातनाओं से गुज़ारकर सुदृढ़ बना दिया गया है , वैसे ही जीवन के संघर्षों से गुज़रकर निर्भीक बन गयी है नारी ।

कांच की दृढ़ता  व नारी की क्षमता , दोनों  को ही  परखा जा रहा है आज  ।

Linking this post with Tina and Mayuri for #fridayfotofiction

 

 

5 Replies to “नारी शक्ति #fridayfotofiction #fictionwriting”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *