The Plumber #fridayfotofiction #fictionwriting

Plumberसक्षम के  पिता  अनपढ़ थे व उम्र भर प्लम्बर( plumber) का   काम करते रहे , पर उन्होंने अपने इकलौते बेटे को खूब पढ़ाया लिखाया  व इंजीनियर बनाया ।

उच्च शिक्षा के साथ साथ उच्च संस्कार भी दिए थे पिता ने ।  नौकरी के लिए शहर  भेजते  समय पिता ने कहा   ” बेटा ,जिंदगी में खूब तरक्की करो खूब पैसा कमाओ पर अपने  जीवन की आधारशिला कभी मत भूलना । यह  सोच कभी भी तुम्हारे मन मे अहंकार पैदा नही होने देगी ”

आज सक्षम के पिता कई महीनों बाद उससे मिलने शहर आये  थे । सुबह जब बेटे को कोट पेंट पहनकर व टाई लगाकर आफिस जाते देखा तो  बहुत  गर्वित  महसूस किया  । शाम को   आफिस से आने के बाद बाप बेटा दिल की बातें करने लगे ।

“पिता जी , अब आप यहीं मेरे पास ही आ जाओ , गावँ में क्या रखा है , और हां अब  आपको वो प्लम्बर का काम करने की कोई ज़रूरत नही ”

तभी एक फोन आता है

” जी जी , ठीक है , अभी 10 मिनट में पहुंच जाता हूँ ”

“कहाँ जाना है इस वक़्त बेटा ? ”

“पिता जी , बस कभी कभी  शाम को  कुछ पार्ट टाइम  काम होता  है  , मैं अभी थोड़ी देर में आ जाऊंगा,  आप आराम करिये ”

पिता आश्चर्यचकित हो गए परन्तु   और भी अधिक गौरवान्वित महसूस  कर रहे थे  जब  सक्षम  ने अपनी प्लम्बर  टूलकिट उठायी और   पार्ट टाइम काम के लिए जाने लगा ।

बेटा सच मे अपनी आधारशिला नही भूला था ।

Linking this post with Tina and Mayuri for #fridayfotofiction

 

 

Author: Monika

Hi, I am Monika, a teacher by profession and a part time blogger by interest. I share my thoughts about life here at AluBhujia . You can find my thoughts in Hindi as well as English language. To me , life is love, life is helping each other & learning from each other.

3 Replies to “The Plumber #fridayfotofiction #fictionwriting”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar