The girl who travelled the world alone –lifestory of PreetySenGupta in hindi

ये एक ऐसी औरत की ज़िन्दगी है जिसने सारी दुनिया का भ्रमण किया और वो भी अकेले …..उनके इस सफर में कई छोटी बड़ी परेशानियां आयीं लेकिन वो travel करती रहीं…..बिना किसी की परवाह किये……..

Preety SenGupta भारतीय मूल की एक traveller और writer हैं जिन्होंने 7 महाद्वीपों का भ्रमण किया है

preetysengupta….who travelled the world alone

गुजरात में जन्मी preety को बचपन से ही travelling का शौक था जो की धीरे धीरे बढ़ता चला गया ….जब इनकी शादी अमेरिका में हुई तो इनके husband ने भी इनके travelling के शौक  को जारी रखने में मदद की……चलिए पड़ते हैं उनकी ज़िन्दगी के कुछ किस्से उन्ही के मुख से :—

MY LOVE FOR TRAVELLING:-

मुझे बचपन से ही travelling का शोक था….जब मैं बड़ी हुई तो ये शौक भी बड़ा हो गया….मैंने कभी नहीं सोचा मेरे साथ कौन जायेगा और न ही कभी किसी से पुछा…..मेरा ज़िन्दगी को जीने का अलग ही तरीका था ….मैं सिर्फ पैसा कमाने के पीछे कभी नहीं भागी….मैं ज़िन्दगी को महसूस करना चाहती थी ….मैंने बहुत साल अकेले ही travel किया….बिना किसी bookings और reservations के….हर नयी destination travel करने से मेरा आत्मविश्वास बढ़ता चला गया …..

हालाँकि दुनिया भर में अकेले travel करना इतना सरल तो नहीं रहा जितना सुनने में लग रहा है ….कई मुश्किलों का सामना किया…पर मैं complaint नहीं कर सकती थी क्यूंकि ये रास्ता मैंने खुद चुना था

PEOPLE SAID ” U ARE A GIRL,,HOW CAN YOU TRAVEL ALONE ?”

एक औरत का travel करना ……..वो भी अकेले…….वो भी indian औरत का…वो भी married indian औरत का……उफ़ …आप सोच सकते हैं की कैसी मुश्किलें आयी होंगी और लोगों का बर्ताव केसा रहा होगा….ऐसे ऐसे सवाल ……कौन हो ……क्या करती हो…..इस देश में क्या करने आयी थी……किस किस से मिली ……तुम्हारे पति कहाँ हैं ? शायद मैं जासूस लग रहीं थी उन्हें …..लोग विश्वास ही नहीं कर पाते थे की एक इंडियन औरत सिर्फ traveller भी हो सकती है

कई लोगों ने मुझे fool भी कहा पर मेरे मन ने कहा ” I am a passionate fool about travelling ” ……….. कठिनाईआं न होती तो मैं जूझती किनसे ? जूझे बिना तो आप उन्नति नहीं कर सकते……तरह तरह की कठिनाईओं का सामना करते करते मेरी dictionary में कई शब्दों का permanent स्थान बन गया जैसे की confidence ,fearlessness contentment…….

Dr Abdul Kalam  says  ” इंसान को कठिनाईओं की आवश्यकता होती है क्यूंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए यह जरुरी है “…….(Read Dr Abdul Kalam’s  inspiring thoughts on www.achhikhabar.com)

MY FIRST TRIP AROUND USA

मेरा सबसे पहला ट्रेवल था AROUND USA …. बहुत कुछ सिखने को मिला ……अकेले ट्रेवल के विचार से कभी कभी घबराहट तो ज़रूर होती थी ……एक बार BELGIUM में मैं एक रात स्टेशन पर ही सो गयी ……..रात को तो वहां सन्नाटा था…पर जब सुबह उठी तो लोगों की बहुत चहल पहल थी वहां….मुझे लगा शायद सब मुझे ही देख रहे थे…..तभी मुझे वहां एक अमेरिकन boy से बात करने का मौका मिला….वो कहने लगा की वो अकेले travel कर  रहा है और इस वजह से बहुत nervous है ….उसकी इस बात से मुझे थोड़ी तस्सली  हुई की अगर यह इतना nervous है तो मेरी थोड़ी सी घबराहट तो जायज़ है

INCIDENT IN DESERT AREA OF AUSTRALIA
ऑस्ट्रेलिया के Desert area  में एक जगह है ULURU जहाँ 1000 फट ऊँचा एक पहाड़ है …उसके top पर जाकर आपको ज़मीन दिखाई देनी बंद हो जाती है …सिर्क आकाश और ठंडी हवाएं और निचे जैसे कुछ भी नहीं ……मनो space  में लटक रहे हैं ……….जब top  से निचे उतरने लगे तो मेरा पैर फिसल गया और मैं तेजी से निचे की और गिरने लगी …चिलाने लगी …..बचाओ बचाओ…तभी एक  औरत ने अपने दोनों हाथ फैलाकर मुझे रोक लिया और मैं बाल बाल बच गयी

ULURU..a place in desert area of australia

SCARY INCIDENT IN ICECOLD ANTARCTICA
Antarctic Ocean  में ship के सफर के दौरान हमारा ship किसी बहुत बड़ी rock से टकरा गया…..उस टकराव से ship में पानी भरने लगा …..देखते ही देखते जहाज़ टेड़ा हो गया …बिजली चली गयी….भगदड़ मच गयी…….सभी को छोटी छोटी boats में jump करने को कह दिया गया…..मैं भी कूद गयी…सब सामान वहीँ छूट गया…..कपडे,किताबें,कैमरा…….शुक्र हुआ बच गयी

my visit to ANTARCTICA

i could see everything frozen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *