Chaliye dil ki awaaz sunte hain

 

चलिए दिल की आवाज़ सुनते हैं

हम सब ज़िंदगी की भागदौड़ में लगे हुए हैं,सुबह जल्दी उठो, उठते ही kitchen की तरफ दौड़ो ,बच्चों को त्यार करो, tiffin पैक करो, husband को breakfast दो, अगर आप खुद भी working हैं तो खुद भी त्यार हो……ये बहुत लम्बी लिस्ट है जो रात तक ख़तम नहीं होती और अगली सुबह फिर नयी लिस्ट त्यार .ऐसी रोज़ाना की लाइफ शायद हम कठपुतली की तरह जीते रहते हैं और कभी कभी हम ये सोचने पे मजबूर हो जाते हैं ….ये मैं कैसी ज़िन्दगी जी रही हूँ ….न कोई excitement न कोई ख़ुशी…ऐसे में हम कई बार इतने बोर हो जाते हैं की हम कहने लगते हैं …आज दिल नहीं लग रहा …आज काम पर जाने का मन नहीं कर रहा….या आज dinner बनाने का मन नहीं कर रहा…कुछ न कुछ अधूरापन सा लगता रहता है…..असल में हमने अपने दिल की आवाज़ को sideline कर रखा है और लगे हुए हैं बस कठपुतली की तरह अपनी जिम्मेवारियां निभाने में…तो चलिए क्यों न आज से अपने दिल की आवाज़ को भी सुनें

कहीं न कहीं हर पल हमारे मन में एक विशेष प्रकार की बात दस्तक देती
रहती है …जो हम असल में करना चाहते हैं….जिस से हमको असली आनंद आता है ,हमे ख़ुशी मिलती है …वह कार्य कुछ भी हो सकता है….जैसे किसी को संगीत से ख़ुशी मिलती है…….. किसी को कोई खेल खेलकर……… किसी को कविता लिखकर..किसी को long drive पे जाके … किसी को कोई favourite dish खाकर…आपने नोटिस किया होगा के जब आप अपना कोई ऐसा पसंदीदा काम करते है तो आप अंदर से कितना खुश feel करते हैं एक नयी स्फूर्ति का अनुभव होता है ….क्युकी जब आप दिल की आवाज़ सुनते हैं तो हमे contentment /संतोष मिलता है और
यदि हम दिल की आवाज़ नहीं सुनते तो discontentment . इसलिए अपने आप के लिए समय ज़रूर निकालिये
पैसा कमाने की होड़ में या घर के बाकि काम निपटाने में हम अपनी वास्तविक ख़ुशी न गवा बैठें….क्युकी ज़िंदगी के काम तो कभी खतम होंगे ही नहीं….

हर क्षण के साथ हमारा जीवन छोटा होता जा रहा है इसलिए daily life के बाकी काम करते करते अपने दिल की आवाज़ को थोड़ा थोड़ा ज़रूर
सुनते रहें .अपने आनंद के लिए समय निकालें चाहे 10 min ही क्यों न हों…

कोई गीत/भजन गुनगुनाइए………..
अपने दोस्त के साथ खिलखिलाकर हँसिये.
अपने पेरेंट्स / बच्चों के साथ quality time spend करिये………
अपनी कोई मनपसंद game खेलिए…
favourite आइसक्रीम खाइये…
कोई अच्छी किताब पढ़िए…
long drive पे जाईये…

अपने favoutite song पर नाचिये…..
(यूँ ही नाचिये बिना किसी occasion का wait किये)

क्युकी इन सब चीज़ों से हमे असली ख़ुशी मिलती है और यही तो हमारा दिल चाहता है

 

Listen to Your Heart

हमेशा अपने दिल की सुनिए ,हालाँकि यह बायीं तरफ होता है ,पर हमेशा सही दिशा दिखाता है

 

Monika

Hi, I am Monika, an educationist for the last 17 years and a mom to a daughter for the last 11 years . Give me a hot cup of masala tea with some snacks plus a laptop and I am happy ! My Blog is a mixed bag of my observations ,learnings and experiences . To me , life is love, life is helping & learning from each other. Life is not that complex -We just have to stop overthinking .

You may also like...

12 Responses

  1. Jawahar lal says:

    I have money,property,status buti feel incomplete without singing and playing harmonium. MUSIC is my real dil ki awaaz. …other things wil giv me comfort but not happiness.

  2. Neeraj says:

    Very Nice Keep it up…

  3. Thats nicely written.
    Keep up the good work !

  4. Swati Vats says:

    So true ….. I unwind myself by trying new recipes, reading books , listening to music and playing with kids

  5. Jyotsna says:

    Mast platform to share our thoughts and life experiences.. great job admin….

  1. July 26, 2017

    […] चुनौती के रूप में स्वीकार करते हैं । आईये अपने दिल की सुनते  हैं , कुछ समय केवल अपने लिए निकालते हैं , […]

  2. August 12, 2018

    […] अपने दिल की आवाज़ सुनना अभी बाकी है […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please wait...

Subscribe

Enter your email address and name below to get the posts direct in your Email
Skip to toolbar